कलीसिया की पुनः खोज: 

ख्रीष्ट की देह आवश्यक
क्यों है

की साझेदारी

शीघ्र आनेवाली है

अपनी भाषा में कलीसिया की पुनः खोज की प्रति मंगाएँ!

“क्या कलीसिया वास्ताव में इतनी महत्वपूर्ण हैं?”

वर्तमान समय की कलीसियाएँ कई कठिन मुद्दों का सामना कर रही हैं। आप उन लोगों में एक हो सकते हैं जो यह सोच रहे हैं कि क्या स्थानीय कलीसिया के लिए समर्पित होना कष्ट उठाने योग्य है।

यह पुस्तक ठीक समय पर स्मरण दिलाती है कि कलीसिया केवल इन्टरनेट पर मिलना ही नहीं है—यह परमेश्वर के कार्य को आगे बढ़ाने के लिए परमेश्वर के लोगों की एक आवश्यक संगति है।

लेखकों के विषय में

जॉनथन लीमैन (पीएचडी, वेल्स विश्वविद्यालय) 9Marks के संपादकीय निदेशक और पास्टर्स टॉक पॉडकास्ट के सह-संचालक हैं। वे एक दर्जन से अधिक पुस्तकों के लेखक या संपादक हैं और कई सेमिनरीयों में पढ़ाते हैं।

जॉनथन अपनी पत्नी और चार बेटियों के साथ वाशिंग्टन, डीसी, के एक उपनगर में रहता है, और शेवर्ली बैपटिस्ट चर्च में एक अगुवे है। आप उन्हें ट्विटर @jonathanleeman पर फॉलो कर सकते हैं।

कॉलिन हैनसेन (ऍमडिव, ट्रिनिटी इवैंजेलिकल डिवइनिटी ​​स्कूल) गॉस्पल कोएलिशन के उपाध्यक्ष और उसकी सामग्री के मुख्य संपादक के रूप में कार्य करते हैं। वे गॉस्पेलबाउंड पॉडकास्ट का संचालन करते हैं और सुसमाचार की ओर: एक व्यकुल युग में दृढ़ आशा के साथ जीना (Gospelbound: Living with Resolute Hope in an Anxious Age.) के सह-लेखक है।

वह बर्मिंघम, अलबामा में रिडीमर कम्युनिटी चर्च में एक अगुवे के रूप में सेवा करते हैं, और बीसन डिवइनिटी ​​स्कूल के सलाहकार बोर्ड में भी हैं। आप ट्विटर पर @collinhansen पर उनको फॉलो कर सकते हैं।

परमेश्वर हमें कलीसिया में इस कारण आमंत्रित नहीं करता है क्योंकि यह एक विश्राम स्थान है जहाँ हमें थोड़ा सा आध्यात्मिक प्रोत्साहन प्राप्त होता है. . . वह हमें एक ऐसे घर में आमंत्रित करता है जिसे प्रायः हम चाहते तो नहीं हैं, फिर भी यह वह है जिसकी हमें आवश्यकता होती है।

पृष्ठांकन

“अब कलीसिया को हल्के में नहीं लिया जा सकता है; यह पीढ़ी जानना चाहती है कि हम जो कर रहे हैं वह क्यों कर रहे हैं। हैनसेन और लीमैन चतुराई से बाइबल के विचारों को वास्तविक संसार के अनुभव के साथ जोड़ते हैं ताकि वर्तमान समय में कलीसिया को क्या करना चाहिए इस बात का घोषणापत्र दे सकें. . .यह एक ऐसी पुस्तक है जिसे आपकी कलीसिया को पढ़ना चाहिए और इसके विषय में बात करनी चाहिए।”

मैक स्टाइल्स, मध्य पूर्व में मिशनरी और पूर्व अगुवे; लेखक, इवैन्जलिज़्म

“स्थानीय कलीसिया की अनिवार्य आवश्यकता के संबंध में भ्रम और निराशा के युग में यह सटीक समय पर आई पुस्तक है। हैनसेन और लीमैन ने एक विश्वासी के जीवन में कलीसिया की भूमिका की तार्किक, व्यावहारिक, बाइबलीय और आधारभूत समझ प्रदान की है …”

मिगुएल नुनेज़, वरिष्ठ पास्टर, सैंटो डोमिंगो का अंतर्राष्ट्रीय बैपटिस्ट चर्च, डोमिनिकन गणराज्य

क्या आपको कलीसिया की आवश्यकता है?

 

इस पुस्तक का उद्देश्य कलीसिया को फिर से खोजने में आप की सहायता करना है। या सम्भवतः यह आपको पहली बार यह पता लगाने में सहायता कर सकती है कि परमेश्वर क्यों चाहता है कि आप स्थानीय कलीसिया के साथ इकट्ठा होने और उसके प्रति स्वयं को समर्पित करने को एक प्राथमिकता बनाएं।

 

मंगाएँडाउनलोड

क्या आपको कलीसिया की आवश्यकता है?

इस पुस्तक का उद्देश्य कलीसिया को फिर से खोजने में आप की सहायता करना है। या सम्भवतः यह आपको पहली बार यह पता लगाने में सहायता कर सकती है कि परमेश्वर क्यों चाहता है कि आप स्थानीय कलीसिया के साथ इकट्ठा होने और उसके प्रति स्वयं को समर्पित करने को एक प्राथमिकता बनाएं।

समान सामग्री

दुख जो विश्वास को दृढ़ करता है

यह असामान्य लग सकता है, परन्तु दुखों द्वारा विचलित किए जाने के प्राथमिक उद्देश्यों में से एक जो हमारे विश्वास को और भी अधिक दृढ़ बनाता है।

सुसमाचार क्या है?

“सुसमाचार क्या है?” इस शीर्षक पर एक लेख लिखना? एक ख्रीष्टीय वेबसाइट के लिए थोड़ा अनावश्यक लग सकता है। क्या सभी ख्रीष्टीय लोगों को पहले से ही सुसमाचार को नहीं समझना चाहिए? हम ऐसा सोच सकते हैं, परन्तु दुख की बात है कि सुसमाचार की सबसे आधारभूत अवधारणा को या तो अनदेखा कर दिया जाता है या तथाकथित विशेषज्ञों द्वारा मान लिया जाता है और इसका कलीसिया पर विनाशकारी प्रभाव पड़ता है।

सुसमाचार अद्भुत है।

जो कुछ भी हम अभी हैं वह इस पर आधारित नहीं है कि हम कौन थे या हमने क्या किया था, यह केवल इस पर आधारित है कि ख्रीष्ट ने हमारे लिए क्रूस पर क्या किया।

©️ 2021 Crossway, USA